Chhattisagarh ki Dharataliya Svarupa | छत्तीसगढ़ : धरातलीय स्वरूप, ऊंची चोटियां और प्राकृतिक प्रदेश पूरी जानकारी Hindi में

छत्तीसगढ़ : धरातलीय स्वरूप - हेल्लो दोस्तों, आज की इस लेख में हम आपको छत्तीसगढ़ के धरातलीय स्वरूप,ऊंची चोटियां, और प्राकृतिक प्रदेश के बारे में  जानकारी देंगे, जोकि छत्तीसगढ़ में आयोजित होने वाली सभी Exams के लिए बहुत ही उपयोगी और महत्वपूर्ण साबित होगी | तो दोस्तों हमारे लेख को अंत तक जरुर पढ़े ताकि आपको पूरी जानकारी मिल सके |

Chhattisagarh ki Dharataliya Svarupa

छत्तीसगढ़ : धरातलीय स्वरूप -

छत्तीसगढ़ के धरातल को बाह्य भू-दृश्य एवं उच्चावच के आधार पर निम्न भौतिक विभागों में बांटा गया है.

पहाड़ी क्षेत्र -

  • चांगभखार देवगढ़ पहाड़ी - उत्तरी भाग में, इस पहाड़ी की सबसे ऊँची चोटी देवगढ़ है. जनकपुर, बैकुंठपुर, मनेन्द्रगढ़ (कोरिया जि.), प्रतापपुर (जि.सूरजपुर), अंबिकापुर के क्षेत्र (जि.सरगुजा) 
  • छुरी-उदयपुर पहाड़ियाँ - उत्तरी भाग में, इस क्षेत्र में सघन वन हैं. सरगुजा, बलरामपुर जि. एवं कोरबा जि. के क्षेत्र, घरघोड़ा, धरमजयगढ़ क्षेत्र (रायगढ़ जि.) 
  • मैकल श्रेणी- पश्चिमी भाग में, गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही, कवर्धा, राजनांदगाँव, यह नर्मदा एवं महानदी प्रवाह प्रणाली को विभाजित करती है. पेण्ड्रा जि. का क्षेत्र, लोरमी क्षेत्र (मुंगेली जि.), पंडरिया (कवर्धा जि.), छुईखदान, खैरागढ़, डोंगरगाँव (राजनांदगाँव) 
  • अबूझमाड़ की पहाड़ियाँ- बस्तर क्षेत्र में, सर्वाधिक वर्षा वाला दुर्गम क्षेत्र, पखांजूर (कांकेर जि.), नारायणपुर, कोण्डागाँव, बीजापुर जिले के क्षेत्र 
  • बैलाडीला की पहाड़ियाँ- दंतेवाड़ा, लौह अयस्क के लिए विख्यात

मैदानी क्षेत्र -

  • छत्तीसगढ़ का मैदान – राज्य का हृदय प्रदेश, धान का कटोरा, पंखाकार, इसके उपविभाग हैं- बिलासपुर-रायगढ़ मैदान, हसदो-मांड मैदान, शिवनाथ पार मैदान, शिवनाथ-महानदी दोआब, महानदी पार मैदान. तखतपुर (बिलासपुर), मुंगेली जि. के क्षेत्र, जांजगीर, पामगढ़, सक्ती, चांपा, डभरा (जाँजगीर-चांपा जि.), रायगढ़, सारंगढ़ तह. (रायगढ़ जि.), द. राजनांदगाँव, द. कवर्धा जिला, बेमेतरा, दुर्ग, रायपुर
  • बस्तर का मैदान – दक्षिणी सीमांत क्षेत्र बीजापुर एवं सुकमा में, यह गोदावरी एवं सबरी नदी का मैदान है. 
  • रिहन्द बेसिन - उत्तरी सीमा पर, गंगा अपवाह तंत्र का हिस्सा, वाड्रफनगर (बलरामपुर) 
  • कन्हार बेसिन – राज्य के उत्तर-पूर्वी सीमा पर, गंगा अपवाह तंत्र का हिस्सा. रामानुजगंज (बलरामपुर) 
  • सरगुजा बेसिन – सरगुजा मुख्य भूमि पर, मुख्य नदी रिहन्द, अंबिकापुर, प.सीतापुर (सरगुजा जि), द. सूरजपुर, द. प्रतापपुर क्षेत्र 
  • हसदो-रामपुरा बेसिन- मुख्य नदी हसदो या हसदेव द. मनेन्द्रगढ़ (कोरिया), प. पेण्ड्रा जि., उ. कटघोरा क्षेत्र (कोरबा) 
  • कोरबा बेसिन- पेण्ड्रा का पठार एवं छुरी पहाड़ियों के बीच में, द. कोरबा, द. कटघोरा 
  • रायगढ़ बेसिन- उदयपुर एवं छुरी पहाड़ियों से लगा हुआ, रायगढ़ एवं कोरबा जिले के कुछ क्षेत्र. 
  • कोटरी बेसिन- राज्य के दक्षिण-पश्चिम सीमा पर स्थित. पखांजूर, भानुप्रतापपुर तह. (कांकेर) एवं मोहला तह. (राजनांदगाँव)

पठार क्षेत्र -
  • पेण्ड्रा लोरमी का पठार - छत्तीसगढ़ के मैदान के उत्तर-पश्चिम सीमा पर, वनाच्छादित. गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही जि., लोरमी (मुंगेली जि.), पंडरिया (कवर्धा | जि.), कटघोरा तह. (कोरबा जि.) 
  • बस्तर का पठार – दण्डकारण्य का पठार, खनिज से सम्पन्न, वनाच्छादित, इंद्रावती एवं सबरी मुख्य नदी. कांकेर, चारामा तह., अंतागढ़ (कांकेर जि.), जगदलपुर तह. (बस्तर जि.), केशकाल, कोण्डागांव (कोण्डागाँव जि.), दंतेवाड़ा, बीजापुर के क्षेत्र 
  • दुर्ग उच्च भूमि – दल्ली-राजहरा की पहाड़ियाँ यहीं हैं, लौह अयस्क से सम्पन्न, गुरूर, डोंडीलोहारा, गुण्डरदेही, संजारी (बालोद जि.), अम्बागढ़, मोहला (राजनांदगाँव) 
  • धमतरी-महासमुंद उच्च भूमि- धमतरी, कुरूद (धमतरी जि.), राजिम, गरियाबंद, देवभोग (गरियाबंद) महासमुंद, सरायपाली (महासमुंद जि.)
पाट क्षेत्र -
  • मैनपाट - छत्तीसगढ़ का शिमला. तिब्बतियों की शरणस्थली. ठंडा प्रदेश, बॉक्साइट की उपलब्धता. द.अम्बिकापुर एवं सीतापुर तह. (सरगुजा जि.) 
  • जारंग पाट - सरगुजा के सीतापुर क्षेत्र में 
  • सामरी पाट – बलरामपुर जि., राज्य की सबसे ऊँची चोटी गौरलाटा इसी पाट में है. 
  • लहसुन पाट - बलरामपुर जि. जमीरा पाट – बलरामपुर जि. 
  • जशपुर पाट - छत्तीसगढ़ के उत्तर-पूर्व सीमा पर, वनाच्छादित, राज्य का सबसे बड़ा पाट प्रदेश. बगीचा, जशपुर, कुनकुरी, पत्थलगाँव तह. (जशपुर जि.) 
  • पण्डरा पाट - जशपुर जि.

छत्तीसगढ़ की ऊंची चोटियां -

ऊंची चोटियां -
  1. छत्तीसगढ़ की सबसे ऊंची चोटी : गौरलाटा 
  2. मैकल श्रेणी की सबसे ऊंची चोटी : बदरगढ़ 
  3. दण्डकारण्य के पठार की सबसे ऊंची चोटी : नंदीराज 
  4. चांगभखार देवगढ़ की पहाड़ी की ऊंची चोटी : देवगढ़
छत्तीसगढ़ की प्रमुख ऊंची चोटी एवं जिला -

1. गौरलाटा : 1225 मी. - बलरामपुर 
2. बैलाडीला नंदीराज : 1210 मी - दंतेवाड़ा
3. बदरगढ़ : 1176 मी - कवर्धा 
4. मैनपाट : 1152 मी - सरगुजा 
5. देवगढ़ : 1033 मी - कोरिया 
6. धारीडोंगरी : 899 मी. - महासमुन्द

छत्तीसगढ़ प्राकृतिक प्रदेश एवं उसका विस्तार -

1. उत्तरी क्षेत्र : पूर्वी बघेलखण्ड का पठार तथा उत्तरी पाट एवं पठार प्रदेश -
  • चांगभखार देवगढ़ पहाड़ी : कोरिया (जनकपुर, बैकुंठपुर, मनेन्द्रगढ़), सरगुजा (अंबिकापुर) सूरजपुर (प्रतापपुर, सूरजपुर) 
  • छुरी-उदयपुर पहाड़ियां : सूरजपुर (रामानुजनगर तह.), सरगुजा (उदयपुर तह), कोरबा (कोरबा तह.), रायगढ़ (घरघोड़ा, धरमजयगढ़) 
  • पत्थलगाँव-लैलूंगा पठार : जशपुर, रायगढ़ के क्षेत्र 
  • मैनपाट : सरगुजा (द.अंबिकापुर एवं सीतापुर तह.) 
  • जारंगपाट: सरगुजा (सीतापुर, लुण्ड्रा तह.) सामरीपाट, 
  • जमीरापाट : बलरामपुर (कुसमी तह.) जशपुरपाट: जशपुर (बगीचा जशपुर, कुनकुरी, पत्थलगाँव तह.) रिहन्द बेसिन : बलरामपुर (वाड्रफनगर तह.) कन्हार बेसिन : बलरामपुर (रामानुजगंज तह.) सरगुजा बेसिन सरगुजा (अंबिकापुर, सीतापुर तह.), सूरजपुर (प्रतापपुर, सूरजपुर) 
  • हसदो-रामपुरा बेसिन : कोरिया (खड़गवाँ तह.), गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही
  • (मरवाही), कोरबा (पोड़ी-उपरोड़ा) 
  • कोरबा बेसिन : कोरबा (कोरबा, कटघोरा) 
  • रायगढ़ बेसिन: रायगढ़ जिले का भाग
2. मध्य का मैदानी भाग : छत्तीसगढ़ का मैदान -
  • दुर्ग-रायपुर मैदान, बिलासपुर-रायगढ़ मैदान, शिवनाथ एवं महानदी का बेसिन : बिलासपुर (बिलासपुर, तखतपुर), जांजगीर (जाँजगीर, चांपा सक्ती, पामगढ़, डभरा), रायगढ़ (रायगढ़, सारंगढ़), कवर्धा, राजनांदगाँव, रायपुर, बलौदाबाजार, बेमेतरा, मुंगेली 
  • दुर्ग उच्च भूमि : बालोद (गुरूर, डोंडीलोहारा, गुण्डरदेही), राजनांदगाँव
  • (अम्बागढ़-चौकी, मोहला) 
  • धमतरी-महासमुंद उच्च-भूमिः धमतरी (मगरलोड, नगरी), गरियाबंद (राजिम,गरियाबंद, देवभोग), महासमुंद (महासमुंद, सरायपाली)
3. दक्षिण का पठारी भाग : दण्डकारण्य का पठार -
  • बस्तर का पठार : कांकेर (कांकेर, चारामा, अंतागढ़), कोण्डागाँव (केशकाल, कोण्डागांव) बस्तर (जगदलपुर तह.), दंतेवाड़ा, बीजापुर (बीजापुर, भैरमगढ़) 
  • अबूझमाड़ की पहाड़ियां : कांकेर (पखांजूर), नारायणपुर जि., बीजापुर (भैरमगढ़)
  • बस्तर का मैदान : बीजापुर जिला, सुकमा (सुकमा, कोंटा) 
  • कोटरी बेसिन : कांकेर (पखांजूर, दुर्गकोंदल), नारायणपुर (ओरछा) राजनांदगाँव (मानपुर, मोहला तह.) 
अन्य भाग : 
  • मैकल श्रेणी -कवर्धा (पंडरिया, कवर्धा तह.), राजनांदगाँव (छुईखदान, खैरागढ़, डोंगरगाँव), गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही जि., मुंगेली (लोरमी) 
  • पेण्ड्रा लोरमी का पठार : गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही, मुंगेली (लोरमी), कवर्धा (पंडरिया), कोरबा (पाली, पोंडी-उपरोड़ा) 

अगर आपको इस पोस्ट में दी गयी जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ Social Media पर Share अवश्य करें ! और Comment के माध्यम से बताऐं की ये पोस्ट आपको कैसे लगी - धन्यवाद |

Follow us on Social Media Sites - 

  • Telegram पर फॉलो करे – Click Here
  • Facebook पर फॉलो करे – Click Here

Post a Comment

Previous Post Next Post