Sindhu Ghati Sabhyata in Hindi Notes | सिंधु घाटी सभ्यता पूरी जानकारी Hindi में

Sindhu Ghati Sabhyata (सिंधु घाटी सभ्यता) - हेल्लो दोस्तों, आज की इस लेख में हम आपको इतिहास (History) के अंतर्गत Sindhu Ghati Sabhyata -(सिंधु घाटी सभ्यता) के Topic पर पूरी जानकारी देंगे | तो दोस्तों हमारे लेख को अंत तक जरुर पढ़े ताकि आपको पूरी जानकारी मिल सके |

Sindhu Ghati Sabhyata in Hindi Notes | सिंधु घाटी सभ्यता पूरी जानकारी Hindi में

दोस्तों, सिंधु घाटी सभ्यता विश्व की प्राचीन नदी घाटी की सभ्यताओं में से एक प्रमुख सभ्यता है। ब्रिटिश पत्रिका नेचर में प्रकाशित शोध के अनुसार यह सभ्यता कम से कम 8000 वर्ष पुरानी है। इस सभ्यता को ‘हड़प्पा सभ्यता’ और ‘सिंधु-सरस्वती सभ्यता’ के नाम से भी जाना जाता है।

इसका सभ्यता का विकास सिंधु और घघ्घर/हकड़ा (प्राचीन सरस्वती) नदी के किनारे हुआ था। मोहनजोदड़ो, कालीबंगा, लोथल, धोलावीरा, राखीगढ़ी और हड़प्पा इसके प्रमुख केन्द्र थे। दिसम्बर 2014 में भिर्दाना को अबतक का खोजा गया सिंधु घाटी सभ्यता का सबसे प्राचीन नगर माना गया है। ब्रिटिश काल में हुई खुदाइयों के आधार पर पुरातत्ववेत्ता और इतिहासकारों का अनुमान है कि यह अत्यंत विकसित सभ्यता थी और ये शहर अनेक बार बसे और उजड़े हैं।

Sindhu Ghati Sabhyata (सिंधु सभ्यता) की प्रमुख स्थलों की पूरी जानकारी नीचे दी गयी है -

हड़प्पा - 

  • पंजाब (पाकिस्तान) के मौन्टगोमरी जिले में स्थित | है। हड़प्पा के टीले की सर्वप्रथम जानकारी चार्ल्स मैसन / मेसोन (Charles Mason) ने 1826 में दी। 1921 में दयाराम साहनी ने इसका सर्वेक्षण किया और 1923 से इसका नियमित उत्खनन आरम्भ हुआ।
  • 1926 में माधोस्वरूप वत्स ने तथा 1946 में मार्टीमर ह्वीलर ने व्यापक स्तर पर उत्खनन कराया। 
  • यहाँ से हमें निम्नलिखित तथ्य मिले हैं - छः अन्त्रागार (15.25 मी. x 6.09 मी.) जिनका सम्मिलित क्षेत्रफल मोहनजोदड़ो से प्राप्त विशाल अन्नागार 838.1025 वर्ग मी. के बराबर है, श्रमिक आवास, ईटों के वृत्ताकार चबूतरे जिनका उपयोग फसल को दाबने के लिए होता था, गेहूँ तथा जौ के दाने।

मोहनजोदड़ो -

  • सिंधी में इसका शाब्दिक अर्थ 'मृतकों का टीला' है। यह सिंध (पाकिस्तान) के लरकाना जिले में सिंधु तट पर स्थित हैं सर्वप्रथम इसकी खोज आर. डी. बनर्जी ने 1922 में की थी।
  • 1922-30 तक सर जान मार्शल के नेतृत्व में विभिन्न पुराविदों ने उत्खनन किया। प्राप्त साक्ष्यों से पता चलता है कि यह शहर सात बार उजड़कर बसा था।
  • यहाँ से प्राप्त अवशेषों में प्रमुख हैं - विशाल स्नानागार (Great Bath), विशाल अन्नागार (Great Granary), महाविद्यालय भवन (Collegiate Building), सभा भवन (Assembly Hall), कांसे की नृत्यरत नारी की मूर्ति (Bronze Statue of Dancing Girl), पुजारी (योगी) की मूर्ति (Priest), मुद्रा पर अंकित पशुपतिनाथ (शिव) (Seal inscribed Pashupatnath), अंतिम स्तर पर बिखरे हुए एवं कुएं में प्राप्त नरकंकाल, सड़क के मध्य कुम्हार का आंवा, गीली मिट्टी पर कपड़े का साक्ष्य

चन्हूदड़ो - 

  • मोहनजोदड़ो से 80 मील दक्षिण में स्थित इस स्थल की सर्वप्रथम खोज एन. जी. मजूमदार (N. G.Majumdar) ने 1931 में की थी।
  • 1935 में इसका उत्खनन मैके (Mackay) ने किया यहाँ सैंधव संस्कृति के अतिरिक्त प्राक-हड़प्पा संस्कृति (Pre-Harappan Culture), जिसे 'झूकर संस्कृति (Jhuker Culture) और 'झांगर संस्कृति (Jhanger Culture) कहते हैं, के भी अवशेष मिले हैं।
  • यहीं के निवासी मुख्यतः कुशल कारीगर थे। इसकी पुष्टि इस बात से हो जाती है कि यह मनके, सीप, अस्थि तथा मुद्रा (Sealmaking) बनाने का प्रमुख केन्द्र था।
  • यहाँ से प्राप्त अवशेषों में प्रमुख हैं- 1. अलंकृत हाथी, 2. खिलौना, 3. एक कुत्ते के बिल्ली का पीछा करते पद-चिन्ह
  • यहाँ किसी दुर्ग का अस्तित्व नहीं मिला है।

लोथल - 

  • अहमदाबाद जिले (गुजरात) के सरागवाला ग्राम में स्थित इस स्थल की सर्वप्रथम खोज डा. एस. आर. राव (S. R. Rao) ने 1954 में की थी।
  • सागर तट पर स्थित यह स्थल पश्चिमी-एशिया से व्यापार का प्रमुख बंदरगाह था।
  • यहाँ से प्राप्त अवशेषों में प्रमुख हैं- 1. बंदरगाह (Dockyard), 2. मनके बनाने का कारखाना (Beads factory), 3. धान (चावल) का साक्ष्य (Evidence of rice), 4. फारस की मोहर (Persian Seal), 5. घोड़े की लघु मृण्मूर्ति (Terracotta figurine of a Horse)|

कलीबंगा (Kalibangan) -

  • राजस्थान के गंगानगर जिले में स्थित इस प्राक-हड़प्पा पुरास्थल की खोज सर्वप्रथम ए. घोष (A. Ghose) ने 1953 में की।
  • यहाँ से प्राप्त अवशेषों में प्रमुख हैं-1. हल के निशान (जुते हुए खेत) (ploughed field), 2. ईटों से निर्मित चबूतरे (Brick platform), 3. हवनकुण्ड (Fire Altar), 4. अन्नागार (Granary), 5. घरों के निर्माण में कच्ची ईंटों का प्रयोग

नोट : यहाँ दो सांस्कृतिक अवस्थाओं- हड़प्पा पूर्व और हड़प्पा कालीन के दर्शन होते हैं।

बनवाली (Banawali) -

  • हरियाणा के हिस्सार जिले में स्थित इस पुरास्थल की खोज आर. एस. विष्ट (R.S. Bisht) ने 1973 में की।
  • यहाँ प्राक-हड़प्पा (PreHarappan) और हड़प्पा संस्कृति (Harappan Culture) दोनों के चिह्न दृष्टिगोचर होते हैं। 
  • मोहनजोदड़ो की ही, भॉति यह भी एक कुशल-नियोजित शहर था, यहाँ पकी ईंटों का प्रयोग किया गया था।
  • यहाँ से प्राप्त अवशेषों में प्रमुख हैं- 1. हल की आकृति (आकृति के रूप में), 2. जौ, तिल तथा सरसों का ढेर (Barley, Seasamum & Mustard), 3. सड़कों और जल-निकास के अवशेष (Remains of Streets and Drains) |

सत्कागेंडोर (Sutkagendor) -

  • सैंधव सभ्यता की पश्चिमी सीमा निर्धारित करता यह पुरास्थल पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत में स्थित है। सर्वप्रथम इसकी खोज ए. स्टीन (A. Stain) ने 1927 में की।
  • वैवीलोन के साथ व्यापार में इस बंदरगाह ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।
  • यहाँ से प्राप्त अवशेषों में प्रमुख हैं- 1. मानव अस्थराख से भरा बर्तन, 2. तांबे की कुल्हाड़ी (Axes of copper), 3. मिट्टी निर्मित चूड़ियां (Bangles of clay), 4. बर्तन (Pottery) |

आलमगीरपुर (Alamgirpur) -

  • उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले में स्थित इस परास्थल की खोज 1958 में की गई। 
  • सैंधव सभ्यता का पूर्वी छोर निर्धारित करता यह स्थल हड़प्पा संस्कृति की अंतिम अवस्था (Lastphase) से संबंधित है। उल्लेखनीय है, यहाँ से अभी एक भी मुहर प्राप्त नहीं हुई |

सुरकोटदा (Surkotada) -

  • गुजरात के कच्छ जिले में स्थित इस स्थल की सर्वप्रथम खोज जगतपति जोशी (jagat pati Joshi) ने 1964 में की।
  • यह स्थल सैंधव संस्कृति के पतन काल को दृष्टिगत करता है।
  • यहाँ के अवशेषों में प्रमुख है - 1. घोड़े की अस्थियाँ (Bones of Horse), 2. एक विशेष प्रकार का कब्रगाह (Special Cenetary)|

रंगपुर (Rangpur) - 

  • यह स्थल गुजरात के अहमदाबाद जिले में स्थित है। क्रमानुसार इसकी खोज 1931 में एम. एस. वत्स (M. S. Vatsa) तथा 1953 में एस. आर. राव (S.R. Rao) ने की।
  • यहाँ सैंधव संस्कृति के उत्तरावस्था के दर्शन होते हैं। उल्लेखनीय है कि यहाँ से प्राप्त अवशेषों में न कोई मुद्रा और न ही मातृदेवी की मूर्ति प्राप्त हुई हैं धान की भूसी का ढेर मिला है। 

अली मुराद (Ali Murad) -

  • पाकिस्तान के सिंध प्रान्त में स्थित यह स्थल बैल की लघु मृण्मूर्ति, कांसे की कुल्हाड़ी, इत्यादि के लिए जाना जाता है।

कोटदिजी (KotDiji) -

  • सिंध (पाकिस्तान) के खैरपुर स्थित इस स्थल की सर्वप्रथम खोज घुर्ये (Ghurey) ने 1935 में की। 1955 से एफ. ए. खान (F. A. Khan) ने इसकी नियमित खुदाई कराई।
  • यहाँ प्राक-हड़प्पा (Pre-Harappan Culture)संसकृति की अवस्था दृष्टिगोचर होती है जहाँ पत्थरी का इस्तेमाल होता है। सम्भवतः पाषाण युगीन सभ्यता का अत तथा हड़प्पा सभ्यता का विकास यहाँ हुआ।

Sindhu Ghati Sabhyata (सिंधु घाटी सभ्यता) से सम्बन्धित महत्वपूर्ण OneLiner Gk -

  • रेडियोकार्बन C14 जैसे नवीन विश्लेषण पद्धति के द्वारा सिन्धु सभ्यता की सर्वमान्य तिथि 2400 ईसा पूर्व से 1700 ईसा पूर्व मानी गयी है |
  • इसका विस्तार त्रिभुजाकार है |
  • सिन्धु सभ्यता को आद्य ऐतिहासिक (Protohistoric) अथवा कांस्य (Bronze) युग में रखा जा सकता है।
  • इस सभ्यता के मुख्य निवासी द्रविड़ एवं भूमध्य सागरीय थे । 
  • सर जान मार्शल (भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के तत्कालीन महानिदेशक) ने 1924 ई. में सिन्धु घाटी सभ्यता नामक एक उन्नत नगरीय सभ्यता पाए जाने की विधिवत घोषणा की।
  • सिन्धु सभ्यता के सर्वाधिक पश्चिमी पुरास्थल दाश्क नदी के किनारे स्थित सुतकागेंडोर (बलूचिस्तान), पूर्वी पुरास्थल हिण्डन नदी के किनारे आलमगीरपुर (जिला मेरठ, उत्तर प्र.), उत्तरी पुरास्थल चिनाव नदी के तट पर अखनूर के निकट माँदा (जम्मू-कश्मीर) व दक्षिणी पुरास्थल गोदावरी नदी के तट पर दाइमाबाद (जिला अहमदनगर, महाराष्ट्र)।
  • सिन्धु सभ्यता या सैंधव सभ्यता नगरीय सभ्यता थी ।
  • सैंधव सभ्यता से प्राप्त परिपक्व अवस्था वाले स्थलों में केवल 6 को ही बड़े नगर की संज्ञा दी गयी है; ये हैं मोहनजोदड़ो, हड़प्पा, गणवारीवाला,धौलावीरा, राखीगढ़ी एवं कालीबंगन
  • स्वतंत्रता प्राप्ति पश्चात् हड़प्पा संस्कृति के सर्वाधिक स्थल गुजरात में खोजे गये हैं। 
नोट : सिन्धु घाटी सभ्यता का सबसे बड़ा स्थल मोहनजोदड़ो हैं, जबकि भारत में इसका सबसे बड़ा स्थल राखीगढ़ी (घग्घर नदी) है जो हरियाणा के जींद जिला में स्थित है। इसकी खोज 1969 ई. में सूरजभान ने की थी।
  • लोथल एवं सुतकोतदा–सिन्धु सभ्यता का बन्दरगाह था।
  • जुते हुए खेत और नक्काशीदार ईंटों के प्रयोग का साक्ष्य कालीबंगन से प्राप्त हुआ है।
  • मोहनजोदड़ो से प्राप्त स्नानागार संभवतः सैंधव सभ्यता की सबसे बड़ी इमारत है, जिसके मध्य स्थित स्नानकुंड 11.88 मीटर लम्बा, 7.01 मीटर चौड़ा एवं 2.43 मीटर गहरा है।
  • अग्निकुण्ड लोथल एवं कालीबंगन से प्राप्त हुए हैं।
  • मोहनजोदड़ो से प्राप्त एक शील पर तीन मुख वाले देवता (पशुपति नाथ) की मूर्ति मिली है। उनके चारों ओर हाथी, गैंडा, चीता एवं भैंसा विराजमान हैं।
  • मोहनजोदड़ो से नर्तकी की एक कांस्य मूर्ति मिली है।
  • हड़प्पा की मोहरों पर सबसे अधिक एक शृंगी पशु का अंकन मिलता है। यहाँ से प्राप्त एक आयताकार मुहर में स्त्री के गर्भ से निकलता पौधा दिखाया गया है।
  • मनके बनाने के कारखाने लोथल एवं चन्हूदड़ो में मिले हैं।
  • सिन्धु सभ्यता की लिपि भावचित्रात्मक है। यह लिपि दायीं से बायीं ओर लिखी जाती थी। जब अभिलेख एक से अधिक पंक्तियों का होता था तो पहली पंक्ति दायीं से बायीं और दूसरी बायीं से दायीं ओर लिखी जाती थी।
नोट : लेखनकला की उचित प्रणाली विकसित करने वाली पहली सभा सुमेरिया की सभ्यता थी।
  • सिन्धु सभ्यता के लोगों ने नगरों तथा घरों के विन्यास के लिए ग्रीड पद्धति अपनाई।
  • घरों के दरवाजे और खिड़कियाँ सड़क की ओर न खुलकर पिछवाडे की ओर खुलते थे। केवल लोथल नगर के घरों के दरवाजे मुख्य सड़क की ओर खुलते थे।
  • सिन्धु सभ्यता में मुख्य फसल थी-गेहूँ और जौ
  • सैधव वासी मिठास के लिए शहद का प्रयोग करते थे।
  • मिट्टी से बने हल का साक्ष्य बनमाली से मिला है।
  • रंगपुर एवं लोथल से चावल के दाने मिले हैं, जिनसे धान की खेती होने का प्रमाण मिलता है। चावल के प्रथम साक्ष्य लोथल से ही प्राप्त हुए हैं। 
  • सुरकोतदा, कालीबंगन एवं लोथल से सैंधवकालीन आयातित घोडे के अस्थिपंजर मिले है।
  • तौल की इकाई संभवतः 16 के अनुपात में थी।
  • सैंधव सभ्यता के लोग यातायात के लिए दो पहियों एवं चार पहियों वाली गोमेद सौराष्ट्र बैलगाड़ी या भैंसागाड़ी का उपयोग करते थे।
  • मेसोपोटामिया के अभिलेखों में वर्णित मेलूहा शब्द का अभिप्राय सिन्धु सभ्यता से ही है। 
  • संभवतः हड़प्पा संस्कृति का शासन वणिक वर्ग के हाथों में था।
  • पिग्गट ने हड़प्पा एवं मोहनजोदड़ो को एक विस्तृत साम्राज्य की जुड़वाँ राजधानी कहा है।
  • सिन्धु सभ्यता के लोग धरती को उर्वरता की देवी मानकर उसकी पूजा किया करते थे।
  • वृक्ष-पूजा एवं शिव-पूजा के प्रचलन के साक्ष्य भी सिन्धु सभ्यता से मिलते हैं।
  • स्वास्तिक चिह्न संभवतः हड़प्पा सभ्यता की देन है। इस चिह्न से सूर्योपासना का अनुमान लगाया जाता है। सिन्धु घाटी के नगरों में किसी भी मंदिर के अवशेष नहीं मिले हैं।
  • सिन्धु सभ्यता में मातृदेवी की उपासना सर्वाधिक प्रचलित थी।
  • पशुओं में कुबड़ वाला साँड़, इस सभ्यता के लोगों के लिए विशेष पूजनीय था।
  • स्त्री मृण्मूर्तियाँ (मिट्टी की मूर्तियाँ) अधिक मिलने से ऐसा अनुमान लगाया जाता है कि सैंधव समाज मातृसत्तात्मक था।
  • सैंधववासी सूती एवं ऊनी वस्त्रों का प्रयोग करते थे। 
  • मनोरंजन के लिए सैंधववासी मछली पकड़ना, शिकार करना, पशु-पक्षियों को आपस में लड़ाना, चौपड़ और पासा खेलना आदि साधनों का प्रयोग करते थे।
  • सिन्धु सभ्यता के लोग काले रंग से डिजाइन किये हुए लाल मिट्टी के बर्तन बनाते थे।
  • सिन्धु घाटी के लोग तलवार से परिचित नहीं थे।
  • कालीबंगन एक मात्र हड़प्पाकालीन स्थल था, जिसका निचला शहर (सामान्य लोगों के रहने हेतु) भी किले से घिरा हुआ था। कालीबंगन का अर्थ है काली चूड़ियाँ ।यहाँ से पूर्व हड़प्पा स्तरों के खेत जोते जाने के और अग्निपूजा की प्रथा के प्रमाण मिले हैं।
  • पर्दा-प्रथा एवं वेश्यावृति सैंधव सभ्यता में प्रचलित थी।
  • शवों को जलाने एवं गाड़ने यानी दोनों प्रथाएँ प्रचलित थीं। हड़प्पा में शवों को दफनाने जबकि मोहनजोदड़ो में जलाने की प्रथा विद्यमान थी। लोथल एवं कालीबंगा में युग्म समाधियाँ मिली हैं।
  • सैंधव सभ्यता के विनाश का संभवतः सबसे प्रभावी कारण बाढ़ था। आग में पकी हुई मिट्टी को टेराकोटा कहा जाता है।
  • कालीबंगा के एक घर में नक्काशीदार ईंटों (Ornamental _bricks) का प्रयोग किया गया था।
  • विशाल स्नानागार (Great Bath) की खोज मार्शल (Sir John Marshal) ने की थी।
  • मिट्टी के बर्तन के एक टुकड़े पर सूती वस्त्र की छाप कालीबंगा से मिली है। 
  • मुहरों पर सूती वस्त्रों की छाप-लोथल से ।
  • मिट्टी के एक नाद पर बुने हुए वस्त्र के निशान आलमगीरपुर से।
  • पुरोहित की प्रस्तर मूर्ति अलंकारयुक्त शाल ओढ़े-मोहनजोदड़ो से।
  • मनके बनाने वाले कारीगरों की कार्यशालायें-लोथल तथा चान्हूदड़ो से। 
  • मुहरों पर पक्षियों के चित्र अंकित नहीं है। डोब (Dove) की आकृति वाले बर्तन मिले हैं, जिनसे यह अनुमान लगता है कि सम्भवतः यह पक्षी धार्मिक महतव का था।
  • प्राप्त साक्ष्यों से पता चलता है कि हड़प्पा में चार प्रजातियाँ पाई गई -1. प्रोटो-ऑस्ट्रोलायड (Proto-Austroloid) 2. भूमध्यसागरीय (Mediterranean) 3. मंगोलियन (Mongoloid) 4. अल्पाइन (Alpine) 
  • इनमें से प्रथम दो प्रजातियाँ ही प्रमुख थीं। 
  • धर्म सम्भवतः सार्वजनिक कम, व्यक्तिगत अधिक था। 
  • 'स्वास्तिक चिह्न संभवतः हड़प्पा सभ्यता की ही देन है। 
  • 'अग्नि कण्ड' लोथल और कालीबंगा से प्राप्त हुए हैं। 
  • कृषि हड़प्पा अर्थव्यवस्था का मूल आधार था। 
  • हड़प्पा मुहरों पर सबसे अधिक एक श्रृंगी पशं का अंकन मिलता है। 
  • द्वितीय विश्वयुद्ध के उपरांत उत्खनन का कार्य मार्टीमर व्हीलर के नेतृत्व में किया गया । 
  • सिंधु सभ्यता में नीले (Blue) रंग का साक्ष्य नहीं मिला हैं 'R-37' कब्रगाह हड़प्पा में मिला हैं 
  • कपास (Cotton) की सर्वप्रथम खेती सैंधव लोगों ने की थी अतः यूनानियों ने उसे सिन्डन (Sindon) नाम दिया था
  • बनवाली तथा कालीबंगा में दो सांस्कृतिक अवस्थाओं-हड़प्पा-पूर्व (Pre-Harappa) और हड़प्पा-कालीन (Harappan) के दर्शन होते है। 
  • हड़प्पा सभ्यता का परवर्ती काल (Later phase) रंगपुर तथा रोजदी (Rojdi) में परिलक्षित होता है। 
  • घोड़े (Horse) की जानकारी मोहनजोदड़ों, लोथल तथा सुरकोटदा से प्राप्त हुई है। 
  • हडप्पा सभ्यता कांस्य युगीन सभ्यता (Bronze Age Civilization) है। 
  • संभवतः 1800 ई. पू. में लोथल के लोगों ने चावल (Rice) का उपयोग किया |
दोस्तों, हमने प्रतियोगी परीक्षाओं (Competitive Exam) में पूछे जाने वाले प्रश्नों के आधार पर सिंधु घाटी सभ्यता से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न-उत्तर निचे दिए गए हैं जो विभिन्न सरकारी परीक्षाओं की तैयारी में आपको सहयोग प्रदान करेंगे |

Sindhu Ghati Sabhyata (सिंधु घाटी सभ्यता) से सम्बन्धित महत्वपूर्ण MCQ Gk -

1. हड़प्पा सभ्यता का सर्वाधिक मान्यता प्राप्त काल है ?
(a) 2800 ई०पू०-2000 ई०पू० 
(b) 2500 ई०पू०-1750 ई०पू०
(c) 3500 ई०पू०-1800 ई०पू० 
(d) निश्चित नहीं हो सका है 

2. सिंधु घाटी की सभ्यता निम्नलिखित में से किस सभ्यता के समकालीन नहीं थी? 
(a) मिस्र की सभ्यता
(b) मेसोपोटामिया की सभ्यता 
(c) चीन की सभ्यता
(d) ग्रीक की सभ्यता

3. सिंधु घाटी की सभ्यता कहाँ तक विस्तृत थी?
(a) पंजाब, दिल्ली और जम्मू-कश्मीर
 (b) राजस्थान, बिहार, बंगाल और उड़ीसा 
(c) पजाब, राजस्थान, गुजरात, उडीसा और बंगाल
(d) पंजाब, राजस्थान, गुजरात, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, सिंध और बलुचिस्तान 

4. सिंधु घाटी की सभ्यता में घोड़े के अवशेष कहाँ मिले हैं?
(a) सुरकोटदा 
(b) वणावली 
c) माण्डा 
(d) कालीबंगा 

5. सिंधु घाटी स्थल कालीबंगन किस प्रदेश में है ?  [SSC Mat. 1999, 2002] 
(a) राजस्थान में 
(b) गुजरात में 
(c) मध्य प्रदेश में 
(d) उत्तर प्रदेश में

6. निम्नलिखित में से किस पदार्थ का उपयोग हड़प्पा काल की मुद्राओं के निर्माण में मुख्य रूप से किया गया था ?   [SSC Mat. 2000, 2002] 
(a) सेलखड़ी 
(b) कांसा 
(c) ताँबा
(d)लोहा

7. हड़प्पा सभ्यता किस युग की थी?  [SSC Mat. 2001]
(a) कांस्य युग 
(b) नवपाषाण युग
(c) पुरापाषाण युग
(d) लौह युग  

8. सिंधु घाटी सभ्यता के लोगों का मुख्य व्यवसाय क्या था ?  [SSC Mat. 2001]
(a) व्यापार 
(b) पशुपालन 
(c) शिकार 
(d) कृषि
9. हड़प्पा सभ्यता के निवासी थे ? [SSC Mat. 2001]
(a) ग्रामीण  
(b) शहरी 
(c) यायावर / खानाबदोश
(d) जनजातीय  

10. सिंधु सभ्यता के घर किससे बनाए जाते थे ?   [SSC Mat. 2001; RRB गोरखपुर Tech. 2004] 
(a) ईंट से 
(b) बाँस से 
(c) पत्थर से 
(d) लकड़ी से

11. हड़प्पावासी किस वस्तु के उत्पादन में सर्वप्रथम थे ? [SSC Mat. 2001; RRB त्रिवेन्द्रम Tech. 2003] 
 (a) मुद्राएँ
(b) कांसे के औजार 
(c) कपास 
(d) जौ

12. निम्नलिखित विद्वानों में से हड़प्पा सभ्यता का सर्वप्रथम खोजकर्ता कौन था ? [SSC Mat. 1999]
(a) सर जॉन मार्शल
(b) आर० डी० बनर्जी 
(c) ए० कनिंघम
(d) दयाराम सहनी 

13. सिंधु सभ्यता का पत्तननगर (बंदरगाह) कौन-सा था? [SSC Mat. 1999] 
(a) कालीबंगन 
(b) लोथल रोपड़
(c) लोथल  
(d) मोहनजोदड़ो

14. पैमानों की खोज ने यह सिद्ध कर दिया है कि सिंधु घाटी के लोग माप और तौल से परिचित थे। यह खोज कहाँ पर हुई?  [SSC Mat. 1999; CDS 19987] 
(a) कालीबंगन 
(b) हड़प्पा 
(c) चन्हुदड़ो 
(d) लोथल 

15. हड़प्पाकालीन समाज किन वर्गों में विभक्त था ?
(a) शिकारी, पुजारी, किसान और क्षत्रिय 
(b) विद्वान, योद्धा, व्यापारी और श्रमिक
(c) ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र
(d) राजा, पुरोहित, सैनिक और शूद्र 

16. सिंधु सभ्यता का सर्वाधिक उपयुक्त नाम क्या है ?
 (a) हड़प्पा सभ्यता 
(b) सिंधु सभ्यता 
(c) सिंधु घाटी सभ्यता
(d) इनमें से कोई नहीं 

17. निम्नलिखित में से कौन-सा/से लक्षण सिंधु सभ्यता के लोगों का सही चित्रण करता है/करते हैं ? [UPSC 2013] 
1. उनके विशाल महल और मंदिर होते थे। 
2. वे देवियों और देवताओं दोनों की पूजा करते थे। 
3. वे युद्ध में घोड़ों द्वारा खींचे जानेवाले रथों का प्रयोग करते थे। 

नीचे दिये गये कूट का प्रयोग कर सही कथन/कथनों को चुनिये
a) केवल 2 
(b) केवल 1 और 2 
(c) 1, 2 और 3
(d) इनमें से कोई नहीं 

18. हड़प्पा सभ्यता की खोज किस वर्ष में हुई थी? [SSC Grad. 2004] 
(a) 1935 ई० 
(b) 1942 ई० 
(c) 1901 ई० 
(d) 1921 ई०

19. हड़प्पा सभ्यता के बारे में कौन-सी उक्ति सही है ? [SSC Grad. 1999] 
(a) उन्हें अश्वमेध का जानकारी थी 
(b) गाय उनके लिए पवित्र थी 
(c) उन्होंने पशुपति का सम्मान करना आरंभ किया
(d) उनकी संस्कृति सामान्यतः स्थिर नहीं थी 

20. हड़प्पा के लोगों की सामाजिक पद्धति...... थी?  [SSC Grad. 1999] 
(a) उचित समतावादी
(b) दास-श्रमिक आधारित 
(c) वर्ण आधारित
(d) जाति आधारित

21. 'सिंध का नखलिस्तान बाग' हड़प्पा सभ्यता के किस पुरास्थल को कहा गया ?
(a) हड़प्पा 
(b) मोहनजोदड़ो 
(c) कालीबंगा 
(d) लोथल 

22. हड़प्पा सभ्यता के सम्पूर्ण क्षेत्र का आकार किस प्रकार का था ?
(a) वर्गाकार 
(b) आयताकार 
(c) त्रिभुजाकार 
(d) गोलाकार 

23. सूची-I को सूची-II से सुमेलित कीजिए 
सूची-I (स्थल)       सूची-II (नदी) 
A. हड़प्पा              1. रावी
B  मोहनजोदड़ो     2. सिंधु 
C. लोथल              3. भोगवा 
D. कालीबंगा         4. घग्घर
कूट    A  B  C  D
a]      1   2   3  4 
b]      2   1   4  3
c]      4   3   2  1
d]      1   2   4  3

24. हड़प्पा सभ्यता के अंतर्गत हल से जोते गये खेत का साक्ष्य कहाँ से मिला है ?
(a) रोपड़ 
(b) लोथल 
(c) कालीबंगा 
(d) बणावली 

25. सैंधव सभ्यता की ईंटों का अलंकरण किस स्थान से मिला है ?  [RRB मुंबई TC 2005]
(a) कालीबंगा 
(b) चन्हूदड़ो 
(c) मोहनजोदड़ो 
(d) बणावली

26. मोहनजोदड़ो कहाँ स्थित है ?  [RRB मुंबई/ भोपाल CC 2003]
(a) पंजाब 
(b) सिंध 
(c) गुजरात 
(d) उत्तर प्रदेश

27. सिंधु सभ्यता में वृहत् स्नानागार पाया गया है? [RRB कोलकाता ASM/GG 2005]
(a) मोहनजोदड़ो में 
(b) हड़प्पा में 
(c) लोथल में 
(d) कालीबंगा में

28. सिंधु सभ्यता की मुद्रा में किस देवता के समतुल्य चित्रांकन मिलता है? [RRB गोरखपुर ASM/GG 2005] 
(a) आद्य शिव
(b) आद्य ब्रह्मा 
(c) आद्य विष्णु 
(d) आद्य इन्द्र

29. निम्नलिखित में से कौन-सा हड़प्पाकालीन स्थल गुजरात में था? [RRB राँची Tech. 2005] 
(a) कालीबंगा 
(b) रोपड़ 
(c) बणावली 
(d) लोथल

30. मोहनजोदड़ो का स्थानीय नाम है? [RRB भोपाल/मुंबई Tech. 2004, SSC MP JEE 2014] 
(a) जीवितों का टीला (Mound of Living) 
(b) कंकालों का टीला (Mound of Skeletons) 
(c) दासों का टीला (Mound of Slaves) 
(d) मृतकों का टीला (Mound of Dead)

31. हड़प्पा सभ्यता का प्रचलित नाम है? 
(a) सिंधु सभ्यता
(b) लोथल सभ्यता
(c) सिन्धु घाटी की सभ्यता 
(d) मोहनजोदड़ो की सभ्यता 

32. सैंधव स्थलों के उत्खनन से प्राप्त मुहरों पर निम्नलिखित में से किस पशु का सर्वाधिक उत्कीर्णन हुआ है ?
(a) शेर 
(b) घोड़ा 
(c) बैल
(d) हाथी 

33. सिंधु घाटी सभ्यता जानी जाती है ?
(a) अपने नगर नियोजन के लिए 
(b) मोहनजोदड़ो एवं हड़प्पा के लिए
(c) अपने कृषि संबंधी कार्यों के लिए 
(d) अपने उद्योगों के लिए 

34. सिंधु सभ्यता का कौन-सा स्थान भारत में स्थित है ?
 (a) हड़प्पा
(b) मोहनजोदड़ो 
(c) लोथल
(d) इनमें से कोई नहीं 

35. भारत में खोजा गया सबसे पहला पुराना शहर था? [SSC CPO SI 2003] 
(a) हड़प्पा 
(b) पंजाब 
(c) मोहनजोदड़ो 
(d) सिंध

36. भारत में चाँदी की उपलब्धता के प्राचीनतम साक्ष्य मिलते हैं?
(a) हड़प्पा संस्कृति में
(b) पश्चिमी भारत की ताम्रपाषाण संस्कृति में 
(c) वैदिक संहिताओं में
(d) चाँदी के आहत मुद्राओं में 

37. सिंधु सभ्यता के बारे में कौन-सा कथन असत्य है ?
(a) नगरों में नालियों की सुदृढ़ व्यवस्था थी 
(b) व्यापार और वाणिज्य उन्नत दशा में था 
c) मातृदेवी की उपासना की जाती थी
(d) लोग लोहे से परिचित थे 

38. मांडा किस नदी के किनारे स्थित था?
(a) चेनाब 
(b) सतलज 
(c) रावी 
(d) सिंधु 

39. हड़प्पाकालीन स्थल रोपड़ / पंजाब किस नदी के किनारे स्थित था?
(a) चेनाब  
(b) सतलज
(c) सिंधु 
(d) रावी 

40. हड़प्पा में एक उन्नत जल प्रबंधन प्रणाली का पता चलता है? [46वीं BPSC 2004]
(a) धौलावीरा में
(b) लोथल में 
(c) कालीबंगन में
(d) आलमगीरपुर में

41. हड़प्पा के मिट्टी के बर्तनों पर सामान्यतः किस रंग का उपयोग हुआ था ? [40वीं BPSC 1995] 
(a) लाल 
(b) नीला-हरा 
(c) पांडु 
(d) नीला

42. सिन्धु सभ्यता निम्नलिखित में से किस युग में पड़ता है ? [39वीं BPSC 1994] 
(a) ऐतिहासिक काल (Historical Period) 
(b) प्रागैतिहासिक काल (Pre-Historical Period) 
(c) उत्तर-प्रागैतिहासिक काल (Post-Historical Period) 
(d) आद्य-ऐतिहासिक काल (Proto-Historical Period) 

43. सिंधु घाटी सभ्यता की विकसित अवस्था में निम्नलिखित में से किस स्थल से घरों में कुँओं के अवशेष मिले हैं ? [UPPCS 2004] 
(a) हड़प्पा 
(b) कालीबंगा 
(c) लोथल 
(d) मोहनजोदड़ो

44. सिंधु घाटी सभ्यता को खोज निकालने में जिन दो भारतीय का नाम जुड़ा है, वे हैं- [UPSC 2003] 
(a) दयाराम साहनी एवं राखालदास बनर्जी 
(b) जान मार्शल एवं ईश्वरी प्रसाद 
(c) आशीर्वादीलाल श्रीवास्तव एवं रंगनाथ राव 
(d) माधोस्वरूप वत्स एवं वी० बी० राव

45. रंगपुर जहाँ हड़प्पा की समकालीन सभ्यता थी, है - [RAS/RTS 1999-2000] 
(a) पंजाब में 
(b) उत्तर प्रदेश में 
(c) सौराष्ट्र में
(d) राजस्थान में

46. हड़प्पा एवं मोहनजोदड़ो की पुरातात्विक खुदाई के प्रभारी थे - [RAS/RTS 1998]
(a) लार्ड मैकाले
(b) सर जान मार्शल 
(c) लार्ड क्लाइव
(d) कर्नल टाड  

47. निम्न में से किस पशु की आकृति जो मुहर पर मिली है, जिससे ज्ञात होता है कि सिंधु घाटी एवं मेसोपोटामिया की सभ्यताओं के मध्य व्यापारिक संबंध थे ? [RAS/RTS 1994-95] 
(a) घोड़ा 
(b) गधा 
(c) बैल 
(d) हाथी

48. सिंधु घाटी के लोग विश्वास करते थे- [RAS/RTS 1993] 
(a) आत्मा और ब्रह्म में
(b) कर्मकाण्ड में 
(c) यज्ञ प्रणाली में
(d) मातृशक्ति में 

49. निम्नलिखित में कौन-सा सिंधु स्थल समुद्र तट पर स्थित नहीं था?
(a) सुरकोटदा 
(b) लोथल 
(c) बालाकोट 
(d) कोटदीजी 

50. निम्नलिखित में से कौन मोहनजोदड़ो की सबसे बड़ी इमारत मानी जाती है ? 
(a) विशाल स्नानागार
(b) विशाल अन्नागार धान्यकोठार 
(c) सभा भवन
(d) इनमें से कोई नहीं 

51. हड़प्पाकालीन लोगों ने नगरों में घरों के विन्यास के लिए कौन-सी पद्धति अपनायी थी? 
(a) कमल पुष्प की आकृति का 
(b) गोलाकार आकृति में 
(c) ग्रीड पद्धति में
(d) त्रिभुजाकार आकृति में 

52. निम्नलिखित पशुओं में से किस एक का हड़प्पा सभ्यता में पाई मुहरों और टेराकोटा कलाकृतियों में निरूपण / अंकन नहीं हुआ था?
(a) शेर
(b) हाथी 
(c) गैंडा 
(d) बाघ 

53. हड़प्पावासी किस धातु से परिचित नहीं थे? 
(a) सोना एवं चांदी
(b) तांबा एवं कांसा 
(c) टीन एवं सीसा
(d) लोहा

54. निम्नलिखित में से किस हड़प्पाकालीन स्थल से युगल शवाधान का साक्ष्य मिला है ?
(a) लोथल
(b) कालीबंगाा 
(c) बणावली 
(d) हड़प्पा 

55. कपास का उत्पादन सर्वप्रथम सिन्धु क्षेत्र में हुआ, जिसे ग्रीक या यूनान के लोग किस नाम से पुकारा? 
(a) सिन्डन (Sindon)
(b) CATCH (Cotton) 
(c) 'a' एवं 'b' दोनों
(d) हड़प्पा 

56. हड़प्पा के काल का ताँबे का रथ किस स्थान से प्राप्त हुआ है ? [CgPSC (P), 2013] 
(a) कुणाल 
(b) राखीगढ़ी
(c) दैमाबाद
(d) बणावली 
(e) रोपड़

57. हड़प्पावासी किन-किन धातुओं का आयात करते थे? 
उत्तर कूट में दें
कूट : 1. चाँदी 2. टिन 3. सोना
(a) 1, 2 एवं 3 
(b) 1 एवं 2 
(c) 1 एवं 3 
(d) 2 एवं 3 

58. हड़प्पावासी लाजवर्द (भवन निर्माण की सामग्री) का आयात कहाँ से करते थे?
(a) हिन्दूकुश क्षेत्र के बदख्शां से 
(b) ईरान से 
(c) दक्षिण भारत से
(d) बलूचिस्तान से 

59. अफगानिस्तान स्थित सिंधु सभ्यता से संबंधित स्थल हैं?
(a) मुंडीगाक
(b) सुर्तोगोई 
(c) (a) एवं (b) दोनों
(d) हड़प्पा 

60. कौन-कौन से नगर सिंधु सभ्यता के बंदरगाह नगर थे?
(a) लोथल एवं सुत्कागेंडर 
(b) अल्लाहदीनो एवं बालाकोट 
(c) कुनतासी
(d) इनमें से सभी

61. मोहनजोदड़ो से प्राप्त पशुपति शिव | आद्य शिव मुहर में किन-किन जानवरों का अंकन हुआ है?
(a) व्याघ्र एवं हाथी 
(b) गैंडा एवं भैंसा 
(c) हिरण 
(d) इनमें से सभी 

62. किस हड़प्पाकालीन स्थल से ‘नृत्य मुद्रा वाली स्त्री की कांस्य मूर्ति' प्राप्त हुई है ?
(a) मोहनजोदड़ो से
(b) कालीबंगा से 
(c) हड़प्पा से 
(d) वणावली से 

63. किस हड़प्पाकालीन स्थल से ‘पुजारी की प्रस्तर मूर्ति' प्राप्त हुई है ?
(a) हड़प्पा 
(b) मोहनजोदड़ो 
(c) लोथल 
(d) रंगपुर 

64. किस सिंधुकालीन स्थल से एक ईंट पर बिल्ली का पीछा करते हुए कुत्ते के पंजों के निशान मिले हैं ?
(a) हड़प्पा 
(b) मोहनजोदड़ो 
(c) चन्हुदड़ो 
(d) लोथल 

65. किस हड़प्पाकालीन स्थल से प्राप्त जार पर चोंच में मछली दबाए चिडिया एवंपेड़ के नीचे खड़ी लोमड़ी का चित्रांकन मिलता है, जो ‘पंचतंत्र' के लोमड़ी की कहानी के सादृश्य है?
(a) हड़प्पा 
(b) मोहनजोदडो 
(c) लोथल 
(d) रंगपुर 

66. स्वातंत्र्योत्तर भारत में सबसे अधिक संख्या में हड़प्पायुगीन स्थलों की खोज किस प्रांत में हुई है? 
(a) गुजरात
(b) राजस्थान 
(c) पंजाब और हरियाणा 
(d) उत्तर-पश्चिमी उत्तर प्रदेश 

67. निम्नलिखित में से कौन-सी फसल हड़प्पाकालीन लोगों का मुख्य खाद्यान्न नहीं था?
(a) जौ 
(b) दालें 
(c) चावल 
(d) गेहूँ 

68. कथन (A) : हड़प्पा तथा मोहनजोदड़ो अब विलुप्त हो गए हैं। [UPPCS 2009]
कारण (R) : वे उत्खनन के दौरान प्रकट हुए थे। 
(a) A और R दोनों सही हैं तथा R,A का सही स्पष्टीकरण है। 
(b) A और R दोनों सही हैं किन्तु R,A का सही स्पष्टीकरण नहीं है। 
(c) A सही है किन्त R गलत है। 
(d) A गलत है किन्तु R सही है। 

69. हड़प्पाकालीन स्थलों में अभी तक किस धातु की प्राप्ति नहीं हुई है ? [CgPSC (Pre) 2012] 
(a) तांबा 
(b) स्वर्ण 
(c) चांदी  
(d) लोहा

70. किस पशु के अवशेष सिंधु घाटी सभ्यता में प्राप्त नहीं हुए हैं ? [CgPSC (Pre) 2012]
(a) शेर
(b) घोड़ा 
(c) गाय 
(d) हाथी

अगर आपको इस पोस्ट में दी गयी जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ Social Media पर Share अवश्य करें ! और Comment के माध्यम से बताऐं की ये पोस्ट आपको कैसे लगी - धन्यवाद |

Follow us on Social Media Sites - 

  • Telegram पर फॉलो करे – Click Here
  • Facebook पर फॉलो करे – Click Here

Post a Comment

Previous Post Next Post